खाकी शाह बाबा का उर्स कूल की रस्म के साथ सम्पन्न

मो फ़रमान पठान

www.daylife.page 

मनोहरपुर (जयपुर)। मोहल्ला खाकीशाह में हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक हजऱत खाकी शाह बाबा रहमतुल्लाह अलैह का 2 दिवसीय वार्षिक उर्स 7 अक्टूबर शनिवार को कूल की रस्म के साथ मे विधिवत सम्पन हो गया। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार 6 अक्टूबर शुक्रवार को जुम्मे की नमाज के बाद में मोहल्ला होद की पाल से हिन्दू मुस्लिम जायरीनों की उपस्तिथि में चद्दर का जुलूस निकला जो कि मोहल्ला सारवान सब्जीमंडी गाँधी चोक तेलियों की टेक आदि मार्ग होता हुआ दरगाह प्रांगण तक आया इस दौरान कस्बेवासियों द्वारा इस जुलूस का भव्य स्वागत किया गया। 

शाम को दरगाह के खादिमों की उपस्तिथि में बाबा के चद्दर पेश की गई व भारत देश के लिए अमन चेन की दुआएं की गई। इसके बाद रात्रि 9 बजे बाद में राजस्थान की प्रसिद्ध कव्वाल पार्टियों द्वारा सम्पूर्ण रात्रि तक एक से बढ़कर एक कव्वाली को सुनाकर बाबा की मान मनुहार की गई। 

इसी प्रकार 7 अक्टूबर शनिवार को सुबह 11 बजे कूल की रस्म हुआ जिसमें कव्वाल पार्टी द्वारा "मुझे ख़ाकी शाह बाबा ने बुलाया ये करम नही तो क्या है" व "ख़ाकी शाह बाबा तेरो मेलों बिछड़यों ही जाए" आदि कव्वाली सुनाकर जायरीनों को झूमने पर मजबूर कर दिया। इसके बाद में लंगर का आयोजन किया गया  जिसमें अकीदतमंदों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया! इसके बाद में सराहनीय कार्य करने वाले लोगों की दस्तारबंदी की गई। 

इस अवसर पर शाहपुरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक आलोक बैनिवाल व उनकी टीम को उर्स में आने पर हजऱत ख़ाकीशाह बाबा रहमतुल्लाह अलैह उर्स कमेटी द्वारा विधायक व उनकी टीम का 51 किलो की माला व सांफ़ा से भव्य स्वागत किया गया। 

इस अवसर पर रशीद अहमद (वंडरलैंड वाटर पार्क), जयपुर जिला पार्षद प्रतिनिधि रामधन गुर्जर,शाहपुरा पंचायत समिति सदस्य प्रतिनिधि एडवोकेट अशोक व्यास, हाजी अब्दुल रज्जाक खान पडियार, सईद खान चोहान, सुरेश असवाल, अब्दुल हमिद खान, इस्लाम इस्लाम मंसूरी, धर्मेंद्र व्यास, सुबराती शाह, कमरुद्दीन शाह, लियाकत शाह, मोहम्मद यूसुफ शाह शाहपुरा वाले, हसन शाह पार्षद, डॉक्टर शकील शाह, शाहपुरा वाले सदरू शाह, सत्तार शाह, रसीद शाह उस्मान शाह, जम्मू शाह उर्फ जमील शाह, पप्पू शाह जयपुर वाले, रमजान शाह, रफ़ीक़ शाह, बुन्दू भामोद वाले, फत्तू शाह, साबर शाह, निजाम शाह, रमजान शाह खोरा, मो यूसुफ रंगरेज़ शाहपुरा, इरफान शाहपुरा, मुन्ना शाह झोटवाड़ा, मुन्ना बड़ा गांव आदि उपस्थित थे।