राजस्थानी सांस्कृतिक संध्या में लोक कलाकारों ने समां बांधा

www.daylife.page 

जयपुर। नगर निगम जयपुर हैरिटेज की ओर से बीका के प्रायोजन मे सिटी पैलेस में भव्य राजस्थानी सांस्कृतिक संध्या मे राजस्थान की समृद्ध सांस्कृतिक परम्पराओं व परिवेश का नृत्य व  गायन की अनूठी प्रस्तुतियो से जयपुर वासियों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

सांस्कृतिक संध्या की शुरुआत महापौर श्रीमती मुनैश गुर्जर व उप महापौर असलम फारुखी व घुमन्तु कल्याण बोर्ड के सदस्य ललित कुमार ढोली राणा ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर पुष्प अर्पित कर की।

राणा ढोली ग्रुप के शैलेन्द्र व गोरव  ने सबसे पहले गणेश वंदना प्रस्तुत की। इसके बाद बीकानेर का प्रसिद्घ मांड गीत 'केसरिया बालम आओ नी पधारो म्हारे देश' व 'बादिला लेता आईजो सा धुमेरदार लहंगो'पर चरी नृत्य पर मनोरम प्रस्तुति दी । और रगं दे म्हारे ओजू रगं दे', ग्रामीण भवाई नृत्य पर 'कुण जी खुदाया कूंआ बावड़ी' व ब्रज की होली नृत्य ' आज ब्रज में होली रे रसिया' अलगोजा पार्टी ने गाने व गीत , कालबेलिया नृत्य 'म्हारी धूमर छै नखराली' मे गीत पर ललित कुमार ढोली राणा व  टीम के आकाश, मुंशी, महेंद्र, संतोष, खुशबू ने नृत्य से दर्शकों का मन मोह लिया व जमकर तालियां बटोरी।

नृत्यांगना हेमलता सिंह ने कील, तलवार, कांच, गिलास, परात पर  भवाई नृत्य की प्रस्तुति देकर दर्शकों को दांतों तले अंगुली दबाने पर मजबूर कर दिया। इस अवसर पर निगम के अनेक पार्षद व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।