सांभर वाईस चेयरमैन को खांचा भूमि का पट्टा नहीं देने के लिये भाजपा ने अड़ंगा लगाया

खांचा भूमि काे व्यवसायिक भूखण्ड बताकर नीलाम करने की ईओ से मांग


शैलेश माथुर की रिपोर्ट 

www.daylife.page

सांभरझील (जयपुर)। नगरपालिका के वाईस चेयरमैन नवलकिशोर सोनी की ओर से न्यू मार्केट स्थित खुद के आवासीय व व्यवसायिक स्थल के अटैच सरकारी जमीन (खांचा भूमि) का नियमानुसार नगरपालिका सांभर से पट्टा प्राप्त करने के लिये पेश की गयी आवेदन फाईल पर आब्जेक्शन करते हुये भारतीय जनता पार्टी के भूतपूर्व अध्यक्ष वर्धमान काला, निवर्तमान चेयरमैन विनोद कुमार सांभरिया की मौजूदगी में नेता प्रतिपक्ष अनिल कुमार गट्टानी व भाजपा कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को ईओ शिवराज कृष्णा को लिखित में इस आशय की शिकायत पेश की है। 

खांचा भूमि को व्यवासिक भूखण्ड बताकर इसे नीलाम करने की मांग की है तथा बताया कि बोली लगाकर बेचने से नगरपालिका को लाखों रूपये का फायदा होगा, इसलिये खांचा भूमि के लिये लगायी विज्ञप्ति को खारिज किया जाये। इन सभी ने इस बात पर भी एतराज जताया है कि नगरपालिका मण्डल की विभिन्न समितियों के गठन की उनको कोई जानकारी नहीं है व नियमों का उल्लंघन करते हुये समितियों के अधिकार हस्तान्तरित किये गये है, हालाकि उनकी ओर से यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि समितियों के कौन कौन से अधिकार वाईस चेयरमेन को हस्तांतरित किये गये हैं। नेता प्रतिपक्ष अनिल कुमार गट्टानी के नेतृत्व पेश की गयी इस आपत्ति को पूरी तरह से राजनीतिक तौर पर देखा जा रहा है। 

बताया जा रहा है कि खांचा भूमि को उन्हीं को दिये जाने का प्रावधान रहा है जिसके पडौस में यह स्थित होती है। इस मामले में वाईस चेयरमैन नवलकिशोर सोनी से बात करने पर कहा कि शिकायत करना भाजपा की रग रग में शामिल है, जिसने मुखिया बनकर शिकायत की है उन्होंने तो खुद ने गैर कानूनी तरीके से निर्माण करवाये है, अतिक्रमण के मामले को देखने के लिये चेयरमैन बालकिशन जांगिड़ की ओर से जो अधिकार दिये गये है उससे इन लोगों में खौफ पैदा हो गया है। मैने पट्टा प्राप्त करने के लिये आवेदन किया हुआ है, नियम में है तो मिल जायेगा नहीं तो कैंसिल हो जायेगा। 

नगर कांग्रेस के पदािधकारी सीपी व्यास ने बताया कि मैंने अखबार में विज्ञप्ति पढ़ी थी, इसलिये व्यवसायिक आधार पर चेयरमैन व ईओ को कार्यवाही करने के लिये मैंने सुझाव जरूर दिया है। व्यक्तिगत मेरी ओर से कोई शिकायत नहीं की गयी है। ईओ शिवराज कृष्णा से बात करने पर कहा कि उनकी ओर से विधिक परीक्षण कराने के उपरान्त ही आगामी कार्यवाही की जायेगी। आपत्ति पेश करने वालों में जिला कार्यकारिणी के सदस्य त्रिलोक सैनी, पार्षद गौत्तम सिंघानिया, पार्षद पति सत्यनारायण, रामअवतार सैनी, किशनलाल कुमावत, विजय व्यास, चन्द्रप्रकाश सैनी, राजेश पारीक भी शामिल रहे।