मकर संक्रांति पर पतंगे आसमान पर व इंसान छतों पे दिखाई दिए


http//daylife.page



मनोहरपुर (जयपुर)। दान और पुण्य का पर्व मकर संक्रांति विधिवत रस्मो रिवाज के हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। लोग प्रातः काल से ही कबूतरों को ज्वार, गायों को रंजका और कीड़ी नगरा को सिचने के लिए निकल पड़े थे इसी के साथ मे पतंगबाजी के शौकीन लोग भी छतों पर चढ़कर पतंगबाजी का आनंद ले रहे थे। 

पतंग के कटने पर वो काटा वो मारा की आवाज का शोर गूंज रहा था कभी हवा ने साथ दिया तो कभी हवा ने दगा दिया। पूरे आसमान में रंग बिरंगी पतंगे दिखाई दे रही थी  बार-बार पतंग काटने वाले खुश और जिनकी पतंग कट रही थी वह दुःखी नजर आए इसी दौरान अपनी मनपसंद फिल्मी गाने सुनकर आनंद ले रहे थे। इधर महिलाए अपनो से बड़ों के पैर छूए इस पर बड़ों ने भी सदा खुश रहो का आशीर्वाद दिया और एक दूजे को वस्त्र और रुपए दिए। 

ओम प्रकाश चौधरी जिला प्रभारी पंचायती राज मंत्रालय कर्मचारी संघ जयपुर, ग्राम विकास अधिकारी शंकर लाल डोड़वाडिया, ग्राम विकास अधिकारी विजय कुमार घोसलिया ने पतंगों पर "जियो और जीने दो", "देश प्रेमी बनो", "नशे से दूर रहो", "शिक्षा ही सर्वांगीण विकास का मूलमंत्र हैं", माता पिता की सेवा करो" आदि श्लोक लिखकर गरीबो को निःशुल्क वितरण की।